BHILWARA AB TAK
Headline राजनीतिक दल राजस्थान

वसुंधरा राजे ने पूनिया पर हमले के बाद BJP नेताओं को घेरा, ‘जब मेरे बेटे के दफ्तर पर हमला हुआ तो….

Share post

जयपुर. रीट (REET) के मसले पर एकबारगी एकजुट हुई राजस्थान बीजेपी (Rajasthan BJP) में फिर मतभेद उभर आये हैं. बीजेपी विधायक दल की बैठक में नेताओं के ये मतभेद खुलकर सामने आये. पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने बारां में अपने सांसद पुत्र दुष्यंत सिंह (Dushyant Singh) के निवास पर हुई तोड़फोड़ के मामले को उठाया तो पार्टी के नेता बगलें झांकने लगे. विधानसभा की ना पक्ष लॉबी में मंगलवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक शुरू होने के बाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने अपने साथ बूंदी में हुई घटना की जानकारी दी. पूनिया ने इसे सरकार की साजिश करार दिया. पूनिया के बोलने के बाद वसुंधरा राजे ने जब अपनी बात रखी तो वहां एकबारगी सन्नाटा छा गया.

घटना की जानकारी देते हुए सतीश पूनिया ने कहा कि कोटा शहर में दौरे के वक्त उनके साथ पुलिस एस्कॉर्ट थी. लेकिन जैसे ही वे कोटा का दौरा पूरा कर जयपुर के लिए रवाना हुए तो बूंदी की सीमा तक पुलिस उन्हें छोड़ कर चली गई. वो कुछ ही किलोमीटर चले होंगे कि कांग्रेस के 300-400 गुंडे सामने आ गए. पहले काले झंडे दिखाए और फिर बीच हाइवे में उनकी कार के ऊपर चढ़कर हंगामा करने लगे. इस दौरान उनकी कार पर पत्थर भी बरसाए गए. उनके पीएसओ के कपड़े फट गए. कांग्रेस के कार्यकर्ता आधे घंटे तक तांडव करते रहे. पूनिया ने कहा कि इस दौरान उन्होंने बड़ी मुश्किल से अपने आपको वहां से बाहर निकाला.

राजे ने उठाया ये गंभीर सवाल
राजे ने कहा कि दुष्यंत सिंह चार बार के सांसद हैं. उनके साथ इस तरह की घटना होना शर्मनाक है. इस मामले में अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने पर वसुंधरा राजे ने सवाल उठाए. राजे ने कहा कि पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का सम्मान होना चाहिए और सबको एक निगाह से देखा जाना चाहिए. वसुंधरा राजे ने कहा कि ऐसी घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण है और भविष्य में ऐसी घटनाएं नहीं होनी चाहिए. इससे गलत मैसेज जाता है. राजे ने यहां तक कहा कि दुष्यंत सिंह के घर पर हुई घटना के बारे में किसी भी नेता ने उनसे बात तक नहीं की.

पूनिया ने की बात का संभालने की कोशिश
हालांकि पूनिया ने इस दौरान बात संभालते हुए कहा कि उन्होंने वसुंधरा राजे को मैसेज किया था. 2 दिन पहले सतीश पूनिया के साथ हुई घटना पर अधिकांश नेताओं ने उनको फोन किया और उनकी कुशलक्षेम पूछी. लेकिन वसुंधरा राजे की ओर से मीडिया में पूनिया के समर्थन में कोई खबर सामने नहीं आई. तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि पूनिया और वसुंधरा राजे के बीच में मतभेद और गहरा गए हैं. वसुंधरा समर्थक विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने भी आज के घटनाक्रम पर मुहर लगाई.

Related posts

उद्योग मंत्री सोमवार को रही भीलवाड़ा जिले के दौरे पर , भगवान देवनारायण के किये दर्शन

राजस्थान: नया वेदर सिस्टम एक्टिव, बारिश का अलर्ट जारी

REET को लेकर भरतपुर में राज्य मंत्री सुभाष गर्ग के घर पास लगे आपतिजनक होर्डिंग

Leave a Comment

Home
Directory
Category